विदेश यात्रा

दुबई में बनेगा विश्व का सबसे बड़ा अंडरवाटर होटल

सोफी वारनेस, दुबई। नए रिकॉर्ड बनाने के मामले में दुबई का कोई सानी नहीं है। सबसे पहले दुनिया का सबसे बड़ा मॉल दुबई मॉल बनाया फिर दुनिया की सबसे बड़ी इमारतबुर्ज खलीफा बनाया। अब वह दुनिया का सबसे बड़ा अंडर वाटर होटल बनाने की तैयारी में है।

Read more...

रेगिस्‍तान से निकलकर आसमान की ओर बढ़ता दुबई

संदीप देव, दुबई से लौटकर।  दुबई, एक ऐसा शहर जिसका बहुत पुराना इतिहास नहीं है। जहां कुछ नहीं उपजता...लेकिन जहां की ऊंची इमारतें आसमान से होड़ ले रही हैं। दुनिया की सबसे ऊंची इमारत 'बुर्ज़ खलीफा' हो, सबसे बड़ा मानव निर्मित आईलैण्ड 'पाम जुमैरा' हो, सबसे बड़ा शॉपिंग सेंटर 'दुबई मॉल' हो, दुनिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट टर्मिनल हो या सबसे तेज रफ़्तार लिफ़्ट..!

मानव निर्मित इमारतों के आकार-प्रकार में दुबई नंबर-वन होने की बेचैनी में ऊंचा ही उठता जा रहा है। वहां की इमारतों पर अरबी व इंग्लिश में खुदा है- 'दुनिया का एक मात्र शहर जो वर्टिकल (लंबवत) रूप से बढ़ रहा है।' दुबई की आलिशान इमारतों को देखकर तो यही लगता है। दुनिया की सबसे बड़ी इमारत `बुर्ज़ खलीफा' की 124 वीं मंजिल पर चढ़कर दुबई को देखने का नजारा एक सिहरन पैदा करता है। अरब सागर और रेगिस्तान के बीच तेजी से उठता 'खूबसूरत कंक्रीट का जंगल!'

Read more...

बुद्ध की शरण में बाघ!

भगवान बुद्ध ने पूरी दुनिया और मानवता को अहिंसा का सन्देश दिया था। बुद्ध के शरण में जाते ही सम्राट अशोक ने हिंसा  का रास्ता हमेशा के लिए त्याग दिया था और चंड अशोक से धम्‍म अशोक के रूप में उनका एक तरह से पुन: जन्‍म हुआ था। लेकिन सम्राट अशोक फिर भी एक मानव थे, लेकिन आधुनिक काल में भगवान बुद्ध बेहद खुंखार बाघों को भी अपनी शरण में लेकर अहिंसक बना रहे हैं। जो बाघ इंसानों को देखते ही उस पर हमला कर देते थे, वे बुद्ध की शरण में जाते ही ध्यान में मग्न हो जाते हैं। वह किसी को चोट नहीं पहुंचाते, बल्कि लोगों से प्यार करते हैं। मांसाहार का उन्होंने त्याग कर दिया है और शुद्ध शाकाहारी जीवन जीते हैं।

Read more...

एक भारतीय ने बसा दिया रेगिस्‍तान में आइसलैंड!

संदीप देव, संयुक्‍त अरब अमीरात से लौटकर रस अल खेमा, कभी नाम भी नहीं सुना था, इसलिए दिल्‍ली-कापसहेड़ा बॉर्डर स्थित फन एंड फूड के मालिक और मेरे मित्र संतोख चाचला ने जब मुझे रस अल खेमा आने का न्यौता दिया तो शुरू में मुझे कुछ समझ ही नहीं आया। सोच ही रहा था कि यह किस देश में आने को वो कह रहे हैं कि फोन के दूसरी ओर मौजूद संतोख जी ने इसे भांप लिया और कहा, अरे संदीप जी दुबई के यह एकदम पास है। दुबई की ही तरह रस अल खेमा भी संयुक्त अरब अमीरात के सात अमीरात में से एक अमीरात है।

Read more...

स्विटजरलैंड में हर तरफ बिखरी है प्राकृतिक सुंदरता

सुन्दर, मनोहारी एवं अप्रतिम प्राकृतिक सौन्दर्य के दीदार के शौकीन लोगों के लिए स्विटजरलैंड सर्वथा उपयुक्त पर्यटन स्थल है, जहां पोर-पोर में धरा एवं अम्बर की खूबसूरती समाई हुई है। हर वर्ष करीब दो लाख भारतीय स्‍वीट्जरलैंड की यात्रा पर जाते हैं।

स्‍वीट्जरलैंड में भारतीयों का पसंदीदा जगह
कई भाषाओं के संगम स्थल एवं संगीत की लहरियों में सराबोर इस देश में बेसेल, ज्यूरिख, जिनेवा एवं लुसेर्न शहर पर्यटकों को सर्वाधिक आकर्षित करते हैं। स्विटजरलैंड सरकार ने भारतीय पर्यटकों के लिए कम लागत के कई तरह के पैकेज तैयार किए हैं।

Read more...

गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सक...
गुमान में न रहें, यह आआपा के पक्ष में सकारात्‍मक नहीं, भाजपा को हराने के लिए नकारात्‍मक वोट था

संदीप देव।और भाजपा की हार में बहुत सारे लोग दिल्‍ली की जनता की मुफतखोरी को दोष दे रहे हैं। मत भूलिए कि इसी जनता ने पिछली बार भाजपा को नंबर एक की पार्टी और लोकसभा [...]

अमेरिकन व स्‍केनडिनेवियन ग्रीनपीस एनजीओ ...
अमेरिकन व स्‍केनडिनेवियन ग्रीनपीस एनजीओ और अरविंद केजरीवाल के रिश्‍ते को समझिए!

संदीप देव।न और स्‍केनडिनेवियन (नार्वे, स्‍वीडन, डेनमार्क) की एनजीओ 'ग्रीनपीस' की भारत में पदाधिकारी प्रीया पिल्‍लई को लंदन जाने के क्रम में दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अडडे पर [...]

दिल्‍ली के चुनाव में अरविंद केजरीवाल का ...
दिल्‍ली के चुनाव में अरविंद केजरीवाल का स्‍यापा!

संदीप देव।कि अन्ना आंदोलन के बाद उत्तराखंड के तत्कालीन भाजपा मुख्यमंत्री भुवनचंद खंडूरी ने नवंबर 2011 में अन्ना-अरविंद के जनलोकपाल को हूबहू अपने विधानसभा में पारित कर मजबूत लोकायुक्त कानून [...]

अश्‍लील फिल्‍में देखने वालों की शादीशुदा...
अश्‍लील फिल्‍में देखने वालों की शादीशुदा जिंदगी खतरे में!

अश्‍लील फिल्में देखने के आदी लोगों के लिए यह खबर बेहद जरूरी है. एक रिपोर्ट के मुताबिक ऐसी फिल्‍में देखने वालों की शादीशुदा जिंदगी खतरे में पड़ सकती है.

समान अपराध संहिता से इस्‍लाम नष्‍ट नहीं ...

संदीप देव।म तुष्टिकरण करने वाली एक पार्टी दम तोड़ती है तो दूसरी पार्टी तत्‍काल खड़ी हो जाती है। भारत का अधिकांश मुसलमान बिना तुष्टिकरण के जी ही नहीं सकता है। उसे देश व समाज में समानता [...]

कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्ष...
कृष्‍ण ने अर्जुन से कहा, हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं। लेकिन आखिर पीपल ही क्‍यों?

संदीप देव।: सर्ववृक्षाणां देवर्षीणां च नारद: हे अर्जुन वृक्षों में मैं पीपल हूं और देवर्षियों में नारद। कदम्‍ब के पेड़ के नीचे रास [...]

मधुर भंडारकर की 'कैलेंडर गर्ल्स' ...
मधुर भंडारकर की 'कैलेंडर गर्ल्स'

मधुर भंडारकर अपनी फिल्म 'कैलेंडर गर्ल्स' को लेकर चाहें जितनी ही गोपनीयता बरतने की कोशिश करें, फिल्म से जुड़ी जानकारियां लीक होती जा रही हैं. कुछ दिन पहले फिल्म की पांचों लीड एक्ट्रेस की बिकिनी वाली [...]

गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता,...
गांधी जी और शास्‍त्री जी में कुछ समानता, लेकिन ढेर सारी असमानता!

‪संदीपदेव‬।ालबहादुर शास्‍त्री- दोनों की जयंती है। दोनों में कुछ बातें समान थीं, जैसे- दोनों बेहद सादगी से जीते थे और दोनों स्‍वयं के प्रति ईमानदार थे। दोनों में एक और बात कॉमन [...]

दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!...
दिल्‍ली में सुरक्षित नहीं है बचपन!

आधी आबादी ब्‍यूरो, नई दिल्ली। जंगल बनता जा रहा है। बच्चों के लिए खेलने के लिए जगह नहीं बची है। पार्क भी धीरे-धीरे खत्म होते जा रहे हैं। अभिभावकों की [...]

नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदे...
नुक्‍कड़ नाटक के जरिए बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेश

दिल्‍ली।  कमल इंसटिट्यूट ऑफ हायर एडूकेशन के छात्र और छात्राओ ने 'बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ ' अभियान पर नुक्कड नाटक का आयोजन किया। 22 जनवरी 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र [...]

असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के ब...
असहिष्णुता: मैं एक मुस्लिम महिला हूं, हिंदुओं के बीच रहती हूं, लेकिन मैंने कभी भारत में भेदभाव महसूस नहीं किया!

सोफिया रंगवाला। पेशे से डॉक्टर हूं। बंगलोर में मेरी एक हाइ एण्ड लेजर स्किन क्लिनिक है। मेरा परिवार कुवैत में रहता है। मैं भी कुवैत में पली बढ़ी हूं लेकिन 18 साल [...]

प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम कर...
प्रधानमंत्री व गृहमंत्री को मीडिया भले ही बदनाम करे, सूचना प्रसारण मंत्री को तो क्रिकेट डिप्‍लोमेसी से ही फुर्सत नहीं है!

संदीप देव।उटलुक पत्रिका के एक गलत खबर के कारण जो हंगामा हुआ और सदन को स्‍थगित करना पड़ा, इसका जिम्‍मेवार कौन है? क्‍या मोदी सरकार मीडिया के इस तरह के गैरजिम्‍मेवार और सबूत [...]

Other Articles